Category Archives: me

About me and my family

अभी भी आस है


  मेरी मुहबोली बहन है यास्मीन पुराना पारिवारिक रिश्ता है हमारा तीज त्यौहार, शादी विवाह में भागीदार होते हैं हम कल यास्मीन ने जो बताया वही लिख रहा हूँ सच है ये, कविता नहीं है. सात आठ साल की एक बच्ची … Continue reading

Posted in me | Tagged , | 1 Comment

तू नहीं है भगवान


रावण को भी हुआ था गुमान कि वो है भगवान स्वयम विश्वकर्मा जी ने बनवाई थी उसकी सोने की लंका क्या हुवा हस्र? जल गयी, कुछ न कर सका बज्र से गिरे थे उसपर महाबली हनुमान मत कर गुमान,तू नहीं … Continue reading

Posted in me | Tagged , | 2 Comments

पूछोगे नहीं तो जानोगे कैसे ?


 चौबे जी का प्रमोशन होने वाला है फिर कक्षा में कहाँ मन लगने वाला है अनमने भाव से पहुंचे अभिवादन का जवाब मुस्कराहट से दिया जैसे कह रहे हों, लो खाओ मिठाई भैया गुरूजी बोले आज उपस्थिति रजिस्टर में हम कोई … Continue reading

Posted in me | Tagged , | Leave a comment

बचपन


मुझे चाहिए मेरा बचपन, घुटनों के बल चलता बचपन नन्ही नन्ही बांहें फैला, माँ के गले लिपटता बचपन मेरी किलकारी, माँ के सपनो में अब भी ज्यों की त्यों है फिर मेरे हँसने रोने में इतना ज्यादा अंतर क्यों है? … Continue reading

Posted in me | Tagged , | 3 Comments

जिंदगी तुमसे कोई गिला नहीं


जिंदगी तुमसे कोई गिला नहीं मेरी किस्मत का फूल खिला नहीं हम तो अपनी ही  राह चलते रहे हमसफ़र हम सा कोई मिला नहीं बांटते रह गए खुशियाँ सबको दरियादिली का मेरी सिला नहीं झेलते रह गए अपनों के कहर हमें दुश्मन … Continue reading

Posted in me | 2 Comments

स्वतंत्रता दिवस


आज सारा देश स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनायेगा थोड़ी देर के लिए महगाई, भ्रष्टाचार से ध्यान हटाएगा आप भी आमंत्रित हैं, …यदि आप वाकई स्वतंत्र है वर्ना तो ये जश्न सर से गठरी उतार, छाये में बैठ बीड़ी सुलगा लेने … Continue reading

Posted in me | 10 Comments

मैं फिर चुप रहा.


आज मेरी नातिन ने मुझसे पूछ लिए कई यक्ष प्रश्न नाना ये टोपीवाले अंकल लोग क्या मांगने आते हैं स्वीटी के घर भी गए थे पर कोई उन्हें कुछ देता क्यों नहीं मैंने इस बार तो जवाब दे दिया देते … Continue reading

Posted in me | 2 Comments